Untitled...

कभी कही हम
गुम से हो जाते है

उन पलों को जीते हुए
हम आज को भूल जाते है

लौटना होता है जब आज में
वो बीतें लम्हे बहुत याद आते है

कुछ आज में , कुछ कल में
उलझे से हम
हर दिन उस उलझन को सुलझाते हम

है ज़िन्दगी अजीब
जिससे भागना हो दूर
ले आती हैं उसे और करीब

जब हम सोचते है
थम गया तूफ़ान ये

एक तेज़ लहर आती है
और फिर हमे बहा ले जाती है

कही दूर..... उस पल से दूर....

Keep Faith
Chakoli :)

3 comments:

Jack said...

Chakoli,

Read all pending posts. Good, you had nice time at home. Nice poems, you do compose well. You are lucking you did not venture into Men's Wash Room. Changing of some of the things is keeping up with changing times but in certains situations loyalty is surely needed. Old memories do make you relive those. Nicely composed.

Take care

ALI said...

aacha hai..

very good...

Tavish Chadha said...

बहुत अच्छी कविता ... बहुत कम हिन्दी ब्लॉग यहाँ हैं ... यह सबसे अच्छा था :)

--Tavish
ब्लॉग लिंक: Sensible Bakwas

Sharing Could Reduce One Calories...GO ON